Sunday, July 20, 2008

हीर


हीर सियाली कर्मां वाली
जिस रांझण ना पाया
इक उडारी ऐसी मारी
आल्हणा खेड़ियां दे घर पाया
बिण रांझण ना जीया जावे
जा मौत नूं गले लगाया
मैं वी हां इक हीर सलेटी
जिस जोगी वर पाया
इस जोगी मैनूं कीता कमली
सारी उम्र रुलाया
अक्खीयां थक्कीयां तक-तक बूहा
पर जोगी ना आया
नां जियोंदी हां, ना मोई हां
रब्बा इह की खेड रचाया

8 comments:

advocate rashmi saurana said...

vha bhut sundar or bhut alag rachana. badhai ho. jari rhe.

परमजीत बाली said...

बहुत वदिया!!

अक्खीयां थक्कीयां तक-तक बूहा
पर जोगी ना आया
नां जियोंदी हां, ना मोई हां
रब्बा इह की खेड रचाया

Mired Mirage said...

बहुत बढ़िया। बहुत समय बाद पंजाबी गीत पढ़ मजा आ गया।
घुघूती बासूती

Udan Tashtari said...

पंजाबी में होने के बावजूद भी समझ पाया. :)

अनुराग said...

bahut badhiya.....punjabi geet ka alag maja hai.

seema gupta said...

nice to read in punjabi lil bit diffecult to undrstand but liked. N ya thanks for ur encouragement and appreciation on my poetry. Regards

P. C. Rampuria said...

प्हाई जितनी तारीफ़ करूं कम पड़ेगी !
इतनी सुंदर , कलेजे को चीर देने वाली
हीर कहूँ या क्या कहूँ ? मैंने नही पढी !
भाई थमनै प्रणाम ! बस जब भी लिखो
छुपाना मत ! शुभकामनाए !

amy said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色