Wednesday, January 28, 2009

ख़्वाब

मेरी मां हत्थां दे विच
बुणदी ऐ कुझ ख़्वाब
पहला ख़्वाब बुणिया सी
पुत्त नूं जमण दा
दूजा, पुत्त दे अफ़सर लगण दा
तीजा ख़्वाब बुणिया सी
पुत्त दे सेहरा बझण दा
हुण मेरी मां बुणदी ए
फिर कुझ कू ख़्वाब
उणदी ए उह ख़्वाब
दादी बनण दे
चक्कदी ए उह कुंडे
पोतरे दीयां जराबां दे
नूंह नूं दिंदी ए आशीर्वाद
रब्ब सुणु मेरी फ़रियाद
घर विच आऊ राजकुमार
मेले लगणगे
हुण मेरी मां उणदी ए
कुझ ख़्वाब

6 comments:

अल्पना वर्मा said...

panjabi to samjh nahin aati--kya kahen?

रवीन्द्र प्रभात said...

सुन्दर ब्लॉग...सुन्दर रचना...बधाई !!

विनय said...

बहुत सुन्दर कविता, समझने में थोड़ी मुश्किल रही , पर मुश्किल नहीं तो आसाँ भी क्या/


---आपका हार्दिक स्वागत है
गुलाबी कोंपलें

इष्ट देव सांकृत्यायन said...

वाह!

डॉ .अनुराग said...

जवाब नही हजूर 1

amy said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色