Monday, June 16, 2008

हीर

वारिस शाह के दरबार में बोदा साईं द्वारा गाई हीर
वो भी बिना किसी म्यूज़िक के
मैंने आजतक इससे ऊपर किसी की हीर नहीं सुनी।
सुनकर देखिए...
http://www.youtube.com/watch?v=Rw2Iz-k8Uf0

5 comments:

अल्पना वर्मा said...

kin shbdon mein shukriya karun aap ka vijay ji---


itni achchee heer sunee-meri ruuh hil gayee-

maine apne sabhi friends ko is ka link forward kar diya hai--

aage bhi aise anmol gems share karte raheeye---
aap ko geeeton ka shuak hai--mere geeeton ko kabhi suneeye-vividh rang blog par--:)
ham is fakeer ke aage kuchh nahi bas apni khushi ke liye gaate hain--
shukriya ek baar fir se--

vijaymaudgill said...
This comment has been removed by the author.
vijaymaudgill said...

अल्पना जी हीर सुनने और अपने दोस्तों को इसका लिंक फावर्ड करने के लिए शुक्रिया। संगीत सच में रूह को सुकून देता है, फिर चाहे वो किसी भी भाषा में क्यों न हो। आप सुनते रहें मैं आपको भेजता रहूंगा।
हीर सुनने के लिए शुक्रिया

रंजू ranju said...

सुंदर सुन कर एक सकून मिला ..धन्यवाद इसको यहाँ देने के लिए

Parul said...

wah...kisi dost ne 5-6 maheeney puurv iska link diya thaa...vo mujhsey kahin gum gaya thaa...aaj aapki post se vapas sunney ko mila...aneko dhanyawaad..aur is sey sachhi heer koi ho nahi sakti....ek baar bahut shukriyaa aapka