Sunday, February 8, 2009

तलाश

ख़ुद नूं ही ख़ुद दी तलाश मार गई
मैंनू इह शराब बेहिसाब मार गई
पी के ख़ुद नूं टोल्ह रिहा हां
ना जाणे किस नाल बोल रिहा हां
लभदा हां ख़ुद नूं गिलासां विच मैं
कदी लभदा हां रंग-बिरंगे लिबासां विच मैं
लभदा हां लोकां दियां अक्खां विच मैं
कदी लभदा हां गलियां के कक्खां विच मैं
ख़ुद नूं ही ख़ुद दी तलाश मार गई
मैंनूं इह शराब बेहिसाब मार गई

7 comments:

राज भाटिय़ा said...

बोत ही सोनी रचना है जी तुहाडी, मेनू तेरा करार ले बेठां..... याद आ गई
धन्यवाद

परमजीत बाली said...

बोत ही वदिया लिखिया है जी।वधाईयां।

Pankaj Upadhyay said...

Bahut hi pyari rachna..Aap bahut achha likhte hain. Wasie main jyada punjabi nahin samjhta lekin aaki kavita poori samjh mein aayi. Aapko kavita se pahle mujhe sirf 'mitti da bawa' jo ki jagjit singh ki ek punjabi ghazal hai, achhi lagti thi.

Ab do ho gayi hain :) Likhte rahiye. Main padhne aata rehoonga.

डॉ .अनुराग said...

great man.....as usual...

मोहन वशिष्‍ठ said...

ख़ुद नूं ही ख़ुद दी तलाश मार गई
मैंनू इह शराब बेहिसाब मार गई


भाई विजय ये सब क्‍या है क्‍या लिख रहे हो मेरी तो कुछ समझ में आ नहीं रहा कि आप ऐसा लिख कैसे सकते हो इतनी अच्‍छी रचना वैसे मुझे यकीन नहीं हुआ हालांकि करूंगा क्‍योंकि पहले भी तुम पंजाबी दी कई कविताएं लिख चुके हो तो यकीन करूंगा मैं आज तुम्‍हें एक नाम देता हूं बहुत बडा नाम है इसे संभालना आज से तुम पंजाबी के शिव कुमार बटालवी हो दूसरे अगर मैं गलत नहीं हूं तो कुछ गलती के लिए माफी चाहूंगा जो दिल में आया लिख दिया तुमहारी लेखनी को मेरा सलाम कायल हूं मैं तुम्‍हारी लेखनी का

योगेन्द्र मौदगिल said...

कब बुला रहे हो विजय.... हो जायें दो-दो पैग...
खैर...
बेहतरीन भावाभिव्यक्ति....
WAH>>>>>>>>

amy said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,性愛,a片,AV女優,聊天室,情色