Tuesday, May 20, 2008

याद

मैं चाहता हूं कि उसे भूल जाऊं
उसकी याद को कैसे भुलाऊं
मुझे अपने ही लगते हैं ग़ैर
जिन्होंने निकाला है मुझसे बैर
एक दिल करता है कि मर जाऊं
पर उससे दग़ा कैसे कमाऊं
मैं चाहता हूं कि उसे भूल जाऊं
उसकी याद को कैसे भुलाऊं